सोमवार, 24 सितंबर 2012

द्वैत है और अद्वैत भी

चारो और है 
कणिका जगत /

ऊर्जा के अबेध कण /

कई कई ..,

मगर 

सब आपस में 
लथ-पथ/

आश्चर्य ...

कि
द्वैत है और अद्वैत भी /








(जैसे - 'मै' -'तुम' द्वैत 
मगर 'हम' अद्वैत ) 

4 टिप्‍पणियां:

Vinay ने कहा…

बहुत ही मोहक

Vinay ने कहा…

नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ... आशा है नया वर्ष न्याय वर्ष नव युग के रूप में जाना जायेगा।

ब्लॉग: गुलाबी कोंपलें - जाते रहना...

कविता रावत ने कहा…

नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ!!

Blogvarta ने कहा…

BlogVarta.com पहला हिंदी ब्लोग्गेर्स का मंच है जो ब्लॉग एग्रेगेटर के साथ साथ हिंदी कम्युनिटी वेबसाइट भी है! आज ही सदस्य बनें और अपना ब्लॉग जोड़ें!

धन्यवाद
www.blogvarta.com