सोमवार, 5 जनवरी 2009

मंथन



" क्या होता है
जो सारे दूर हो जाते है ?
सुख जो अपने है
वो गुम हो जाते है
मंथन तो है ही जीवन
विष पीने वाले ही
शंकर हो जाते है "
__________
सम्बन्ध

संबंधो में संपर्क
की जरुरत क्या ?
गर जरुरत है तो
फ़िर सम्बन्ध क्या ?

__________

3 टिप्‍पणियां:

swati ने कहा…

आप सुंदर लिखते हैं......वर्ड वेरिफिकेशन हटा दें तो और सुविधा होगी सभी को टिपण्णी देने में......बस मै इस विचार से सहमत नहीं कि संबंधों में संपर्क की जरोरत नही...

sudhir ने कहा…

Nice------

सुशील कुमार छौक्कर ने कहा…

बहुत ही बेहतरीन लिखा है। आपके लेखन में दार्शनिकता होती है।