रविवार, 11 जनवरी 2009

आज भी है



सर्द मौसम की
ठिठुरती रात में
गर्म सांसो के
अलाव का
वो अहसास
आज भी है।
सूरज की
तपन के बीच
मिलन की प्रतीक्षा
वेदी पर
श्रावण की बूँद की
आस
आज भी है।
जहा थामा
हाथ छुडा कर
दूर हुई थी तुम
वही जस का तस् है
पड़ा प्रेम विश्वास
आज भी है।

5 टिप्‍पणियां:

sudhir ने कहा…

Simatati hai sandhya jab suraj ki baho me tabhi sutrapat hota hai ek nai usha ka------prem vishwas ka shashwat satya yahi hai...
Sudhir Dewas wala

samprti jain ने कहा…

behtrin...
amitabhji..bahut khub likha he aapne..kavita me upmaye laajavab he..
bahut gahre vichar hote he aapke..is dor me ese vichar vale he to mujhe dar nahi ki sahitya khatm ho jayega..

बेनामी ने कहा…

aapki kalam me takat he.
kya khoob likhte he aap, dil ko chhu jaate he shabd..mene iske pahle is blog par kai marmik kavitaye padi he kintu aapki kalam se nikli kavita sach me jabardast he

santosh

rajendra ने कहा…

wah kya upmaye he..
sard mosam..garam sanse..bahut acchha likha he.
aapki mohabbat ko salam..

intelligence ने कहा…

vintage dior
christian dior bag
dior bag
dior handbag
dior handbags