सोमवार, 30 मार्च 2009

जैसे माँ का आँचल

तुम्हारा निर्मल स्नेह
मेरे तपते हुए जीवन को
बर्फ सी ठंडक देता है,
मै थोडा शांत होकर
अपने 'होने' के भाव को
महसूस करने लगता हूँ।
तुम्हारे शब्द सुमन
मेरे रेगिस्तानी पथ पर
मखमली गलीचे का
निर्माण करते है,
और दूर होने के बावजूद
लक्ष्य के करीब होने का
अहसास होने लगता है।
तुम्हारा दिया गया
अप्रत्यक्ष मान- सम्मान
इस भीड़ भरी
स्वार्थी दुनिया में
मस्तक को गर्व से
ऊंचा उठाने में
टेका देता है,
और दंभ से भरा
आकाश मेरे कदमो में
लिपटने लगता है।
एक सच कहू-
तुम्हारा व्यवहार
और तुम मेरे लिए
ठीक वैसी हो
जैसे माँ का आँचल।

15 टिप्‍पणियां:

dr. rajesh varma ने कहा…

आपके व्यक्तित्व से प्रभावित तो आपसे मिल कर हो ही गया था. किन्तु अब आपकी कविताओ ने मुझे आपकी रचनाधर्मिता से परिचय कराया. आपकी जिंदा दिली और धीर गंभीर छवि के बीच मस्तीभरे वो क्षण खूब याद आ रहे है. आपसा इंसान होना भी खुदा की देन है.

अजित वडनेरकर ने कहा…

कुछ यूं भी सोचा जा सकता है परदेस में ...

the pink orchid ने कहा…

is kavita ne mujhe meri yaad dila di.. maaf kijiyega agur aapka bhaav wo nahi tha... par mera aapke prati sneha kuchhh aisa hi hai amitabh ji..chehre par ek muskaan aa gayi ye padh kar.

in panktiyon ke liye bahut bahut dhanyawaad..

Harkirat Haqeer ने कहा…

एक सच कहू-
तुम्हारा व्यवहार
और तुम मेरे लिए
ठीक वैसी हो
जैसे माँ का आँचल।

कोई माँ के बराबर सम्मान प् ले इस से बड़ी बात और क्या होगी ...बहुत खूब ...!!

विनय ने कहा…

क्या कहूँ इतनी सुन्दर रचना के लिए समझ नहीं आ रहा है!

---
तख़लीक़-ए-नज़र

सुशील कुमार छौक्कर ने कहा…

अमिताभ भाई माँ जैसा कोई और नही। माँ पर जितना भी लिखा जाए वो कम ही है। और आपने बहुत ही सुन्दर भाव लिख दिये।

तुम्हारा दिया गया
अप्रत्यक्ष मान- सम्मान
इस भीड़ भरी
स्वार्थी दुनिया में
मस्तक को गर्व से
ऊंचा उठाने में
टेका देता है,

सच ऐसा ही महसूस होता है।

दिगम्बर नासवा ने कहा…

निर्मल स्नेह की अभिव्यक्ति है आपकी रचना....
प्रेम की शक्ति, प्रेम की ताकत को खूब उभारा है आपने इस रचना में
सुन्दर रचना के लिए बधाई

MUFLIS ने कहा…

बड़ी ही सच्चाई से निर्मल और शाश्वत प्रेम
से साक्षात्कार करवाने में बिलकुल सफल रहे हैं
आप अपनी इस पावन रचना के माध्यम से ....
आपका रचना-संसार आपकी उज्वल छवि को
सभी पाठकों तक पहुंचा रहा है ....
मेरी हार्दिक शुभ-कामनाएं . . . .
---मुफलिस---

sandhyagupta ने कहा…

Dil ko kahin chua aapki is rachna ne.Badhai.

रश्मि प्रभा ने कहा…

माँ के आँचल की खुशबू जहाँ हो,वहां की बंजर ज़मीन भी
आशान्वित होती है.....बहुत सुन्दर......
तुम्हारा निर्मल स्नेह
मेरे तपते हुए जीवन को
बर्फ सी ठंडक देता है,
मै थोडा शांत होकर
अपने 'होने' के भाव को
महसूस करने लगता हूँ। ....... यह एहसास अद्भुत है

shyam kori 'uday' ने कहा…

... बेहद प्रभावशाली व प्रसंशनीय रचना है, दिल को छू लिया और मन प्रसन्नचित हो गया।

manu ने कहा…

अमित जी,,,
बहुत ही खूबसूरती से माँ का शब्द चित्रण किया है,,,
माँ का आँचल सुखद रहा,,,,

bhootnath( भूतनाथ) ने कहा…

waah bhayi waah.........maa ki baat aati hai to ham vaise bhi sa-sammaan aankhe nam kar lete hain....!!

RC ने कहा…

Beautiful expression and a wonderful truth of life that few lucky ones are blessed with ... and luckier ones know that they are blessed!
Nice portray!

God bless
RC

chirag ने कहा…

bahut khoob likha hai apane
maine apaki kai rachanye padhi apake blog par kafi accha lagi saari

me chahta hu ke aap mere blog par mere dwara likhi gayi rachnao ko bhi dekhe aur us par apane vichar prakat kare

dhanaywad


mere blog ka address hain:-

http://seemywords-chirag.blogspot.com/