मंगलवार, 3 मई 2011

लेखा-बही

बहुत दिनों से लिखना नहीं हो पा रहा है। इधर रीवा से श्रद्धेय डॉ.पियुष श्रीवास्तव की एक शोध व बोधपरक पुस्तक "अनंत यात्रा, धर्म का विज्ञान" प्राप्त हुए कई दिन हो गये तथा उसे दो-तीन बार पढ भी लिया, किंतु उस पर कुछ लिखने की इच्छा मेरे कार्यों की व्यस्तताओं के कारणवश अधर में है। अपनी इच्छा को शब्द रूप देकर शीघ्र संपादित करुंगा ही, इसके पहले वर्ष 2001 में एक छोटी सी रचना लिखी थी जो डायरी पलटते हुए दिखी तो सोचा ब्लॉग पर चिटका दूं.., न जाने क्यूं मुझे इसकी पंक्तियां अच्छी लगी. ..हालांकि बहुत ही साधारण है मगर अपनी मुर्गी है सो अच्छी लगनी ही है...खैर

"अकेला नहीं
मगर
भीड में नहीं,
अस्तित्व अपना
अदना ही सही।
कुछ जानें
कुछ न जानें..
अपना यही
लेखा-बही।"

19 टिप्‍पणियां:

शोभना चौरे ने कहा…

बहुत दिन बाद आपको पढना अच्छा लगा कितने ही व्यस्त हो एक आध ऐसी छोटो ही shi rachna jarur daliye .
yh lekha bahi bhut sntulit hai

अल्पना वर्मा ने कहा…

छोटी सी कविता मगर भाव गहरे लिए है..सच ही तो है अपना लेखा बही अपना हिसाब किताब खुद को ही मालूम होता है..भीड़ में वैसे भी ये ही बस अपना होता है ..

नीरज गोस्वामी ने कहा…

अमिताभ जी बहुत अच्छी रचना है...मुर्गी आपकी है लेकिन कमाल की है...
नीरज

रचना दीक्षित ने कहा…

इतने दिन बाद आपको पढ़ना अच्छा लगा छोटी है तो क्या कारगर बहुत है यहाँ तो हर एक भीड़ में भी अकेला ही है

रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा" ने कहा…

श्रीमान जी, मैंने अपने अनुभवों के आधार ""आज सभी हिंदी ब्लॉगर भाई यह शपथ लें"" हिंदी लिपि पर एक पोस्ट लिखी है. मुझे उम्मीद आप अपने सभी दोस्तों के साथ मेरे ब्लॉग www.rksirfiraa.blogspot.com पर टिप्पणी करने एक बार जरुर आयेंगे. ऐसा मेरा विश्वास है.

Rakesh Kumar ने कहा…

अभिताभ जी पहली दफा आपके ब्लॉग पर आना हुआ.आपकी कविता और आपका अंदाज दोनों अच्छे लगे.अपना अस्तित्व ही हमें भीड़ से अलग बनाता है.सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

मेरे ब्लॉग पर आइयेगा,आपका हार्दिक स्वागत है.

Parul ने कहा…

gagar mein sagar ....!

सुशील कुमार छौक्कर ने कहा…

कम शब्दों में बहुत खूब कही। ऐसा लगता है जैसे मुझ पर ही कही।

रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा" ने कहा…

श्रीमान जी, क्या आप हिंदी से प्रेम करते हैं? तब एक बार जरुर आये. मैंने अपने अनुभवों के आधार ""आज सभी हिंदी ब्लॉगर भाई यह शपथ लें"" हिंदी लिपि पर एक पोस्ट लिखी है. मुझे उम्मीद आप अपने सभी दोस्तों के साथ मेरे ब्लॉग www.rksirfiraa.blogspot.com पर टिप्पणी करने एक बार जरुर आयेंगे. ऐसा मेरा विश्वास है.

श्रीमान जी, हिंदी के प्रचार-प्रसार हेतु सुझाव :-आप भी अपने ब्लोगों पर "अपने ब्लॉग में हिंदी में लिखने वाला विजेट" लगाए. मैंने भी कल ही लगाये है. इससे हिंदी प्रेमियों को सुविधा और लाभ होगा.

singhsdm ने कहा…

कविता छोटी होने के बावजूद कथ्य के हिसाब से सम्पूर्ण है......
यह कविता आपको आछी लगी ठीक है.. मगर हमें बहुत अच्छी लगी
"अकेला नहीं
मगर
भीड में नहीं,
अस्तित्व अपना

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

वाह वाह .....
अमिताभ जी बहुत खूब .....

अपनी १०, १२ क्षणिकायें तुरंत हमें मेल कर दें अपने संक्षिप्त परिचय और तस्वीर के साथ .....
हमें सरस्वती-सुमन पत्रिका में अतिथि संपादिका होने का गौरव मिला है जो क्षणिका विशेषां होगा ....


harkirathaqeer@gmail.com

दिगम्बर नासवा ने कहा…

अपना अस्तित्व बना रेक ... चाहे अकेले ही रहे ....
अमिताभ जी ... बहुत दिनों के बाद आपको ब्लॉग पे देख कर अछा लगा ... काम में व्यस्त रहें ये तो अच्छी बात है ...

sandeep sharma ने कहा…

बहुत खूबसूरत लाइने लिख डाली आपने...

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

अस्तित्व अपना
अदना ही सही।
कुछ जानें
कुछ न जानें..
अपना यही
लेखा-बही।"

सरल सम्प्रेषण है पर भाव बहुत गहरे....

रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा" ने कहा…

प्रिय दोस्तों! क्षमा करें.कुछ निजी कारणों से आपकी पोस्ट/सारी पोस्टों का पढने का फ़िलहाल समय नहीं हैं,क्योंकि 20 मई से मेरी तपस्या शुरू हो रही है.तब कुछ समय मिला तो आपकी पोस्ट जरुर पढूंगा.फ़िलहाल आपके पास समय हो तो नीचे भेजे लिंकों को पढ़कर मेरी विचारधारा समझने की कोशिश करें.
दोस्तों,क्या सबसे बकवास पोस्ट पर टिप्पणी करोंगे. मत करना,वरना......... भारत देश के किसी थाने में आपके खिलाफ फर्जी देशद्रोह या किसी अन्य धारा के तहत केस दर्ज हो जायेगा. क्या कहा आपको डर नहीं लगता? फिर दिखाओ सब अपनी-अपनी हिम्मत का नमूना और यह रहा उसका लिंक प्यार करने वाले जीते हैं शान से, मरते हैं शान से
श्रीमान जी, हिंदी के प्रचार-प्रसार हेतु सुझाव :-आप भी अपने ब्लोगों पर "अपने ब्लॉग में हिंदी में लिखने वाला विजेट" लगाए. मैंने भी लगाये है.इससे हिंदी प्रेमियों को सुविधा और लाभ होगा.क्या आप हिंदी से प्रेम करते हैं? तब एक बार जरुर आये. मैंने अपने अनुभवों के आधार आज सभी हिंदी ब्लॉगर भाई यह शपथ लें हिंदी लिपि पर एक पोस्ट लिखी है.मुझे उम्मीद आप अपने सभी दोस्तों के साथ मेरे ब्लॉग एक बार जरुर आयेंगे. ऐसा मेरा विश्वास है.
क्या ब्लॉगर मेरी थोड़ी मदद कर सकते हैं अगर मुझे थोडा-सा साथ(धर्म और जाति से ऊपर उठकर"इंसानियत" के फर्ज के चलते ब्लॉगर भाइयों का ही)और तकनीकी जानकारी मिल जाए तो मैं इन भ्रष्टाचारियों को बेनकाब करने के साथ ही अपने प्राणों की आहुति देने को भी तैयार हूँ.
अगर आप चाहे तो मेरे इस संकल्प को पूरा करने में अपना सहयोग कर सकते हैं. आप द्वारा दी दो आँखों से दो व्यक्तियों को रोशनी मिलती हैं. क्या आप किन्ही दो व्यक्तियों को रोशनी देना चाहेंगे? नेत्रदान आप करें और दूसरों को भी प्रेरित करें क्या है आपकी नेत्रदान पर विचारधारा?
यह टी.आर.पी जो संस्थाएं तय करती हैं, वे उन्हीं व्यावसायिक घरानों के दिमाग की उपज हैं. जो प्रत्यक्ष तौर पर मनुष्य का शोषण करती हैं. इस लिहाज से टी.वी. चैनल भी परोक्ष रूप से जनता के शोषण के हथियार हैं, वैसे ही जैसे ज्यादातर बड़े अखबार. ये प्रसार माध्यम हैं जो विकृत होकर कंपनियों और रसूखवाले लोगों की गतिविधियों को समाचार बनाकर परोस रहे हैं.? कोशिश करें-तब ब्लाग भी "मीडिया" बन सकता है क्या है आपकी विचारधारा?

Rakesh Kumar ने कहा…

आप मेरे ब्लॉग पर आये और सुन्दर सी टिपण्णी देकर आपने मुझे कृतार्थ किया,इसके लिए बहुत बहुत आभार.
एक बार फिर से आईये मेरे ब्लोग पर. मेरी ५ मई को जारी की गई पोस्ट आपका बेसब्री से इंतजार कर रही है.

BrijmohanShrivastava ने कहा…

अमित जी आपने तो व्यस्तता बतलादी मगर मै तो बिजी विदाउट वर्क हो रहा हू।पुरानी पोस्ट देखी तब आपका नाम तलाश पाया । लंेखा बही अच्छा लगा । अकेले भी नहीं भीड में भी नहीं । भीड मे तो वैसे भी हरेक का अस्तित्व अदना सा हो ही जाता है

Richa P Madhwani ने कहा…

http://shayari10000.blogspot.com

रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा" ने कहा…

लीगल सैल से मिले वकील की मैंने अपनी शिकायत उच्चस्तर के अधिकारीयों के पास भेज तो दी हैं. अब बस देखना हैं कि-वो खुद कितने बड़े ईमानदार है और अब मेरी शिकायत उनकी ईमानदारी पर ही एक प्रश्नचिन्ह है

मैंने दिल्ली पुलिस के कमिश्नर श्री बी.के. गुप्ता जी को एक पत्र कल ही लिखकर भेजा है कि-दोषी को सजा हो और निर्दोष शोषित न हो. दिल्ली पुलिस विभाग में फैली अव्यवस्था मैं सुधार करें

कदम-कदम पर भ्रष्टाचार ने अब मेरी जीने की इच्छा खत्म कर दी है.. माननीय राष्ट्रपति जी मुझे इच्छा मृत्यु प्रदान करके कृतार्थ करें मैंने जो भी कदम उठाया है. वो सब मज़बूरी मैं लिया गया निर्णय है. हो सकता कुछ लोगों को यह पसंद न आये लेकिन जिस पर बीत रही होती हैं उसको ही पता होता है कि किस पीड़ा से गुजर रहा है.

मेरी पत्नी और सुसराल वालों ने महिलाओं के हितों के लिए बनाये कानूनों का दुरपयोग करते हुए मेरे ऊपर फर्जी केस दर्ज करवा दिए..मैंने पत्नी की जो मानसिक यातनाएं भुगती हैं थोड़ी बहुत पूंजी अपने कार्यों के माध्यम जमा की थी.सभी कार्य बंद होने के, बिमारियों की दवाइयों में और केसों की भागदौड़ में खर्च होने के कारण आज स्थिति यह है कि-पत्रकार हूँ इसलिए भीख भी नहीं मांग सकता हूँ और अपना ज़मीर व ईमान बेच नहीं सकता हूँ.