शुक्रवार, 2 जुलाई 2010

ईसा वाक्य

-मैं भूल गया
उन मानसिक दबावों,
जानबूझ कर
दिये गये अप्रत्यक्ष तनावों को,
भूल गया तमाम कडवे अनुभव.......
क्योंकि मुझे लगता है
कडवी दवाई
अमूमन सेहत के लिये
हितकारी होती है।

-आज अगर मैं टिका हूं
या भले ही सलीब पर टंगा हूं
फिर भी सोचने में
बुराई नहीं कि
आखिर उन सच्चे
हृदयवालों की दुआयें
फिज़ूल कैसे हो सकती हैं?......
क्या यह विश्वास
जीवन को गति नहीं दे सकता?

-इसलिये
ईसा के अंतिम वाक्य
गूंजते हैं
"ये नहीं जानते कि क्या कर रहे हैं......।"

26 टिप्‍पणियां:

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत सुन्दर और प्रेरणादायक रचना...

सुधीर ने कहा…

bahut hi sundar

बेनामी ने कहा…

पिछली कुछ रचनाओं में मैं देख रहा हूं 'कुछ खास'? और यह भी जानता हूं कि शब्दों में उतार कर आप जैसा ही लेखक जागरुकता फैला सकता है। गम्भीरता से पढ गया मैं..अद्भुत आध्यात्म कर बैठा। पता नहीं कितना और सोचा जा सकता है...। डॉक्टर हूं तो कडवी दवाई का गहराई से सन्दर्भ जान गया। और विश्वास का यह कोण अपने आप में ही अज़ब है अमिताभजी। फिर ये सचेत करना कि कितने नासमझ हैं वो..समझ जाओ। ईसा वाक्य..या अमित वाक्य।

-आज समय मिला मुझे ब्लॉग देखने का..
-डॉ. राजेश वर्मा

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत उम्दा!

रवि कुमार, रावतभाटा ने कहा…

बेहतर...

kshama ने कहा…

Yahi wishwas to safar ka tosha hai!
Bade tareeqese pesh kee hai aapne apni samvedansheelta!

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' ने कहा…

आज अगर मैं टिका हूं
या भले ही सलीब पर टंगा हूं
फिर भी सोचने में
बुराई नहीं कि
आखिर उन सच्चे
हृदयवालों की दुआयें
फिज़ूल कैसे हो सकती हैं?......

अमिताभ जी....
कितनी गहराई है आपके शब्दों में!

अल्पना वर्मा ने कहा…

कठिन और दुर्गम रास्तों से भी हिम्मत से ,मुस्कराते हुए गुज़रना होगा..चाहे वे किसी के बनाये हुए क्यों न हों ,यह भी परीक्षा है .
'नासमझ जो हैं उन्हें एक न एक दिन समझ आ ही जाएगी.'समय 'किसी को कभी बख्शता नहीं है.
और शुभचिंतकों की दुआएं कभी बेकार नहीं जा सकतीं .
ईसा वाक्य कभी गलत हो ही नहीं सकता.सही लिखते हैं आप.

डॉ टी एस दराल ने कहा…

आखिर उन सच्चे
हृदयवालों की दुआयें
फिज़ूल कैसे हो सकती हैं?......
सही है । इस विश्वास को बनाये रखिये ।

सुशील कुमार छौक्कर ने कहा…

जी चाहता है कि खूब ........

राजकुमार सोनी ने कहा…

यह रचना खास ही है। आपको बधाई।

Parul ने कहा…

aapki bhasha shaili bahut bhati hai mujhe!

Shah Nawaz ने कहा…

Bahut adhik Gehrai liye hue.... Bahut hi behtreen!

शोभना चौरे ने कहा…

sach to hai jeevan ko vishvas hi to gti deta hai .kuchh khas hai is rachna me jo bhut der tk bandhe rkhti hai .

रचना दीक्षित ने कहा…

इसलिये
ईसा के अंतिम वाक्य
गूंजते हैं
"ये नहीं जानते कि क्या कर रहे हैं......।"
कितना सच है !!!! सोचने को मजबूर करती रचना.बड़ी सहजता से इतनी गंभीर बात कह गये.

अनामिका की सदाये...... ने कहा…

"ये नहीं जानते कि क्या कर रहे हैं......।"

बहुत कुछ क्या सब कुछ कह गयी ये बात...अब कुछ बाकि नहीं रह जाता कहने को.

बहुत गूढ़ रचना.

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

मंगलवार 06 जुलाई को आपकी रचना ... चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर ली गयी है आभार

http://charchamanch.blogspot.com/

Jayant Chaudhary ने कहा…

"आखिर उन सच्चे
हृदयवालों की दुआयें
फिज़ूल कैसे हो सकती हैं?......
क्या यह विश्वास
जीवन को गति नहीं दे सकता?"


Bahut sundar....
Kyaa baat hai.

सूर्यकान्त गुप्ता ने कहा…

"ये नही जानते कि ये क्या कर रहे हैं" सचमुच हम कोई नही जानते कि हम क्या कर रहे हैं क्यों आपस मे लड़ रहे हैं मर रहे हैं कट रहे हैं? सुन्दर रचना।

नीरज गोस्वामी ने कहा…

बेहतरीन सोच को सार्थक शब्द दिए हैं आपने...बधाई
नीरज

दिगम्बर नासवा ने कहा…

"ये नहीं जानते कि क्या कर रहे हैं......।"

जब सोच इसा के करीब पहुँच जाती है तो निर्वाण की स्थिति आ जाती है ... अपना पराया ख़त्म हो जाता है .. दर्द दर्द नही रहता ... कड़वा पन मीठा लगता है ... बहुत ही प्रभावी लिखा है अमिताभ जी ....

MUFLIS ने कहा…

मानसिक तनाव की तीव्रता
और
सार्थक शब्दों की सच्चाई ....
अनुपम संगम बन पडा है अमिताभ जी

प्रेरणादायक रचना ... !

निपुण पाण्डेय ने कहा…

जी अमिताभ जी !
जीवन के कडुवे अनुभव ही हमें सिखाते हैं और रह में चलने की शक्ति देते हैं और दुआएं तो हमेशा कारगर होती हैं ! प्रत्यक्ष हों या ना हों ! कहीं ना कहीं असर जरूर करती हैं !
जीवन के फलसफों को बहुत गहराई से समझाते हैं आप हमेशा !
अगली रचना का इंतज़ार रहेगा :)

आशीष/ ASHISH ने कहा…

Bau jee,
........................
........................
........................
........................
Jai Ho!

अपूर्व ने कहा…

हम खुद नही जानते कि हम क्या कर रहे हैं और क्यों कर रहे हैं..और मजे की बात है कि फिर भी सलीब पर भी हमें ही टंगना होता है..और अनुभव की कड़वी दवाइयां भी काम नही आती हैं...
कविता विचारों को गति देती है और बम्प्स भी...

mridula pradhan ने कहा…

wah .bahot sunder.