शनिवार, 6 फ़रवरी 2010

शुक्रिया जनसत्ता


जनसत्ता के 5 फरवरी के अंक में मेरी पोस्ट 'मुश्फिक़ की फिक़्र" प्रकाशित की गई। इसे जनसत्ता ने ब्लोग से ही उठाया। यह खुशी की बात है कि पत्रकारों मे अभी भी कुछ ऐसे लोग बचे हैं जो अच्छा लिखने का, लिखते रहने का हौसला देते हैं और रचनाओं की कद्र करते हैं। उन्हें धन्यवाद। शुक्रिया जनसत्ता।

13 टिप्‍पणियां:

भारत ब्रिगेड ने कहा…

sabhee aabhaaree hain jansattaa ke

Udan Tashtari ने कहा…

बधाई.

श्याम कोरी 'उदय' ने कहा…

.... बहुत बहुत बधाई!!!!

अविनाश वाचस्पति ने कहा…

पहले शुक्रिया लेखक का
उसके बाद छापने वाले का
और पढ़ने वालों के शुक्रगुजार
तो सदा से हैं हम सब।

दिगम्बर नासवा ने कहा…

इतनी अच्छी पोस्ट सबके सामने आनी ही चाहिए ...... बहुत बहुत बधाई अमिताभ जी ...........

Babli ने कहा…

आपको हार्दिक बधाइयाँ ! इतना बढ़िया पोस्ट तो ज़रूर आना चाहिए! बहुत अच्छा लगा! लिखते रहिये इसी तरह और हम सब पढ़ते रहेंगे!

शोभना चौरे ने कहा…

bhaut bhut badhai .
shubhkamnaye aap aise hi lihte rahe aise hi ham bhi pdhte rhe .

Ravi Rajbhar ने कहा…

Badhai Amitabh jee,
aur sukriya jansatta ka jisane is rachna ko jagah di..aur ho bhi kyon na akhir achchhi lekhni ko jagah milni hi chahoye.

psingh ने कहा…

अमिताभ जी
बहुत बहुत बधाई

डॉ टी एस दराल ने कहा…

सही कहा आपने , अच्छा लिखने को प्रोत्साहन मिलना ही चाहिए।
बधाई।

madhursah ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
manu ने कहा…

जनसत्ता को हमारी ओर से भी आभार कहिएगा साहिब...

शरद कोकास ने कहा…

बधाई हो अमिताभ अच्छा लगा यह देखकर